LATEST ARTICLES

ghee-tyar-in-uttarakhand
घी-त्यार- उत्तराखंड को देवो की भूमि के साथ साथ त्योहारों की भूमि भी कहा जाता है । आज ही के दिन उत्तराखंड में एक बड़ा त्योहार मनाया जाता है । हालांकि वक्त के साथ साथ हम सभी इसे लगभग भूलते जा रहे हैं लेकिन उत्तराखंड के अधिकतर गांवों में आज भी ये त्योहार बड़े धूम धाम के साथ मनाया...
raksha-bandhan-2019-mera-uttarakhand
Raksha Bandhan 2019- रक्षाबंधन भारतीय संस्कृति का एक प्रमुख त्यौहार है। श्रावण पूर्णिमा पर मनाया जाने वाला रक्षाबंधन भारत के प्रसिद्ध त्योहारों में से एक है,  जिसे भारत के एक बड़े भू-भाग में मनाया जाता है। वक़्त के साथ इस त्योहार में काफी बदलाव भी आए हैं, लेकिन इसकी मूलभावना आज भी बरकरार है। यह भाई और बहन के प्रेम...
hindu-dharma-8-prahar
हिन्दू धर्म (Hindu Dharma) में समय की बहुत ही वृहत्तर धारणा है। आमतौर पर इस समय में मिनट, सेकंड, घंटे, रात-दिन, माह, वर्ष, दशक और शताब्दी तक की ही प्रचलित धारणा है, परन्तु अगर हम हिन्दू धर्म की बात करे तो हिन्दू धर्म में एक अणु, तृसरेणु, त्रुटि, वेध, लावा, निमेष, क्षण, काष्ठा, लघु, दंड, मुहूर्त, प्रहर या याम, दिवस,...
garuda-purana-unraveling-the-secret-of-death
जहां एक ओर वेदों को हिन्दू धर्म के पवित्र दस्तावेजों के तोर पर देखा जाता है वहीं ग्रंथ और पुराण इसकी रीढ़ की हड़ी कहे जा सकते हैं, जिनके बिना हिन्दू धर्म अधूरा माना जाता है। इन्हें हिन्दू धर्म के ऐसे दर्शन शास्त्रों की संज्ञा दी जाती है जो धर्म, समाज और सभ्यता, सभी का मिलाजुला स्वरूप हैं। मृत्यु जीवन...
importance of applying tilak
तिलक लगाने की परंपरा कब से और कैसे शुरू हुई यह बताना थोड़ा कठिन है, लेकिन यह परंपरा भारत में प्राचीनकाल से चली आ रही है। आज भी किसी आयोजन में आने वाले व्यक्ति का स्वागत-सत्कार तिलक लगाकर ही किया जाता है। विवाहित स्‍त्री अपने मस्तक पर कुंकुम का तिलक धारण करती है। शादी-विवाह या किसी मांगलिक कार्य में बहन-बेटी या महिलाएं...