LATEST ARTICLES

Bhumiya devta uttarakhand
उत्तराखंड जिसे देवभूमि भी कहा जाता है यहा अनेक देवी देवताओ का निवास स्थान है जिसमे से एक है हमारे भूमिया देव . भूमिया देवता (Bhumiya devta) को भूमि का रक्षक देवता माना जाता है. देवभूमि उत्तराखण्ड में भूमिया देवता (Bhumiya devta) के मंदिर हर गाँव में हुआ करते हैं. जिसकी वजह से इन्हें गाँव का क्षेत्रपाल भी कहा जाता...
हम सब ही अपनी ज़िंदगी में कभी न कभी कुछ  समय के लिए परेशान जरूर होते हैं मगर डिप्रेशन (depression) यानी अवसाद उससे कहीं ज़्यादा लंबा, गहरा, और ज़्यादा दुख दायक होता है. इसकी वजह से लोगों की अपनी ज़िंदगी से रुचि धीरे धीरे ख़त्म होने लगती है और रोज़मर्रा के कामकाज से मन भर जाता है. आइये जानते है अवसाद...
Sheikh-Chilli-Stories-funny-story
शेख चिल्ली ( Shekh Chilli ) हमेशा ही उटपटांग बाते करते रहता था । शेख चिल्ली की माँ हमेशा ही उसकी बेवकूफी भरी बातों से परेशान रहती थी। एक बार की बात है शेखचिल्ली ने अपनी माँ से पूछा कि माँ लोग मरते कैसे हैं? अब माँ सोचने लगी कि इस बेवक़ूफ़ को कैसे समझाऊ कि लोग मरते कैसे हैं,...
dadi-ka-badla-funny-hindi-story-mera-uttarakhand
रात में एक चोर गांव के एक आदमी के घर में घुसा। उसने कमरे का दरवाजा खोला तो बरामदे में दादी सो रही थी। चोर के खटपट से उनकी आंखें खुल गईं। चोर ने घबराकर देखा तो दादी लेटे-लेटे चोर से बोली : बेटा, तुम देखने में तो किसी अच्छे घर के लगते हो। लगता है किसी परेशानी से मजबूर होकर इस...
sheikh-chilli-Hindi-story
बचपन में मियां शेख चिल्ली को मौलवी साहब नें शिक्षा दी थी की लड़के और लड़की के लिए अलग अलग शब्दों का प्रावधान होता है। उदाहरण के तौर पर “सुलतान खाना खा रहा है" लेकिन “सुलताना खाना खा रही है।" मियां शेख चिल्ली नें मौलवी साहब की यह सीख गाठ बांध ली। फिर एक दिन मियां शेख चिल्ली जंगल से गुज़र...