गरुड़ पुराण के बारे में सभी जानते होंगे। गरुड़ पुराण में स्वर्ग, नरक, पाप, पुण्य के अलावा बहुत कुछ है। इसमें ज्ञान, विज्ञान, नीति, नियम और धर्म शामिल हैं। एक तरफ गरुड़ पुराण में जहां एक ओर मृत्यु का रहस्य छिपा है, वहीं दूसरी ओर जीवन का रहस्य भी छिपा है। गरुड़ पुराण को उत्तराखडं (Uttarakhand) के साथ साथ लगभग पूरा देश अच्छी तरह से जानता है ।
गरुड़ पुराण हमें कई तरह की शिक्षा देता है। गरुण पुराण में मृत्यु से पहले और बाद की स्थिति के बारे में बताया गया है।
यह पौराणिक कथा भगवान विष्णु की भक्ति और ज्ञान पर आधारित है। इस पुराण को सभी को पढ़ना चाहिए।
गरुड़ पुराण हिंदू धर्म के प्रसिद्ध धार्मिक ग्रंथों में से एक है। इसे 18 पुराणों में से एक माना जाता है। गरुड़ पुराण में हमें जीवन के बारे में कई रहस्यमय बातें बताई गई हैं। वह व्यक्ति जिसमें व्यक्ति को निश्चित रूप से जन्म लेना चाहिए।

Garuda Purana
Garuda Purana

संयम और सतर्कता:

अगर जीवन है तो दोस्त और दुश्मन भी हैं। कहा जाता है कि जिसका दुश्मन नहीं है, वह अपने जीवन में कुछ भी नहीं कर रहा है। ऐसे में उसका कोई दोस्त नहीं होता।
इसका मतलब यह नहीं है कि हम जानबूझकर लोगों को दुश्मन बनाते हैं। अगर हम अपने तरीके से जी रहे हैं, तो दुश्मन बनना स्वाभाविक है।

यह भी पढ़े-  क्या है खुश रहने का राज़ (Secret of Happiness In Hindi Motivational story)

कुछ दुश्मन सामान्य होते हैं और कुछ खतरनाक।
गरुड़ पुराण के नीतिसार में कहा गया है कि दुश्मनों से निपटने के लिए सतर्कता और चतुराई बरतनी चाहिए। दुश्मन लगातार हमें नुकसान पहुंचाने की कोशिश करते हैं। अगर हम इस तरह से चतुराई नहीं दिखाते हैं तो हम नुकसान उठाएंगे।
अर्ताथ जैसा शत्रु हो उसके लिए वैसी ही निति का उपयोग करना चाहिए

कपड़े हो साफ और सुगंधित:

यदि आप अमीर या भाग्यशाली बनना चाहते हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप साफ, सुंदर और सुगंधित कपड़े पहनें। गरुण पुराण के अनुसार, उन लोगों का सौभाग्य नष्ट हो जाता है जो गंदे कपड़े पहनते हैं।
जिस घर में ऐसे लोग होते हैं जो गंदे कपड़े पहनते हैं, लक्ष्मी उस घर में कभी नहीं आती हैं।
जिसकी वजह से उस घर से सौभाग्य की प्राप्ति नहीं होती है और वह गरीबी का शिकार हो जाता है।
यह देखा गया है कि जो लोग धन और सभी सुख-सुविधाओं से संपन्न होते हैं, लेकिन फिर भी वे गंदे कपड़े पहनते हैं, उनका धन धीरे-धीरे नष्ट हो जाता है। इसलिए हमें साफ और सुगंधित कपड़े पहनने चाहिए ताकि महालक्ष्मी की कृपा हम पर बनी रहे।

अभ्यास के बिना ज्ञान नष्ट हो जाता है। यदि आप समय-समय पर ज्ञान या ज्ञान का अभ्यास नहीं करते हैं, तो वे भूल जाएंगे। गरुड़ पुराण के अनुसार, यह माना जाता है कि हम जो भी पढ़ते हैं उसे हमेशा एक बार अभ्यास करना चाहिए। ताकि ज्ञान हमारे मस्तिष्क में अच्छी तरह से बन सके।

यह भी पढ़े- जीवन में खुश रहने के तरीके ( TIPS THAT WILL MAKE YOUR LIFE HAPPY )

स्वस्थ शरीर:

एक स्वस्थ शरीर संतुलित आहार से प्राप्त होता है। व्यक्ति भोजन से स्वास्थ्य प्राप्त करता है और भोजन से ही बीमार हो जाता है। भोजन हमारे शरीर का मुख्य स्रोत है।
हमें हमेशा आधे से अधिक रोग इस तथ्य के कारण होते हैं कि हम असंतुलित भोजन लेते हैं।
जिसके कारण हमारा पाचन तंत्र ठीक से काम नहीं करता है। इसलिए हमें हमेशा उचित भोजन ग्रहण करना चाहिए।
ऐसे भोजन से पाचन तंत्र ठीक से काम करता है और शरीर को भोजन से पूरी ऊर्जा मिलती है। पाचन तंत्र स्वस्थ होता है और इसी वजह से हम बीमारियों से बचते हैं।

Garuda Purana
Garuda Purana

तुलसी के महत्व को समझें:

हालांकि तुलसी के महत्व का उल्लेख गरुड़ पुराण को छोड़कर कई अन्य पुराणों में मिलता है। तुलसी को घर में रखने से सभी प्रकार के रोगों से मुक्ति मिलती है। इसे रोज खाने से व्यक्ति में कोई बीमारी नहीं हो सकती है।
तुलसी को घर में रखने से और तुलसी को जल चढ़ाने से लाभ होता है। उन्हें भगवान के प्रसाद में लेने से सभी शारीरिक और मानसिक विकार दूर हो जाते हैं। विष्णु की पूजा करने के बाद उनकी पूजा करना बहुत ही फलदायक होता है।

 

दोस्तों आपको यह कहानी कैसी लगी हमे नीचे कमेंट में लिख कर जरूर बताये । और मेरा उत्तराखंड (Mera Uttarakhand) को ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों तक पहुचाये ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here