जहां एक ओर वेदों को हिन्दू धर्म के पवित्र दस्तावेजों के तोर पर देखा जाता है वहीं ग्रंथ और पुराण इसकी रीढ़ की हड़ी कहे जा सकते हैं, जिनके बिना हिन्दू धर्म अधूरा माना जाता है। इन्हें हिन्दू धर्म के ऐसे दर्शन शास्त्रों की संज्ञा दी जाती है जो धर्म, समाज और सभ्यता, सभी का मिलाजुला स्वरूप हैं।

मृत्यु जीवन का सत्य है लेकिन एक सत्य, जो मृत्यु के बाद शुरु होता है। इस सच के बारे में, बहुत कम लोग ही जानते हैं। क्या वाकई, मृत्यु के समय व्यक्ति को कोई दिव्य दृष्टि मिलती है?

आखिर मृत्यु के कितने दिनों बाद, आत्मा यमलोक पहुंचती है?

garuda-purana-unraveling-the-secret-of-death
garuda-purana-unraveling-the-secret-of-death

गरुण पुराण ( Garuda Purana ) में, भगवान विष्णु के वाहन गरुण, श्री हरि विष्णु से मृत्यु के बाद आत्मा की स्थिति को लेकर प्रश्न उठाते हैं। वह पूछते हैं कि मृत्यु के बाद, आत्मा कहां जाती है?

इसका उत्तर भगवान विष्णु ने, गरुण पुराण में दिया है। गरुण पुराण में, मृत्यु के पहले और बाद की स्थिति के बारे में बताया गया है।

क्या होता है मृत्यु से पहले?

गरुण पुराण ( Garuda Purana ) के अनुसार, मृत्यु से पहले, मनुष्य की आवाज चली जाती है। जब अंतिम समय आता है, तो मरने वाले व्यक्ति को दिव्य दृष्टि मिलती है। इस दिव्य दृष्टि के बाद, मनुष्य, सारे संसार को, एक रूप में देखने लगता है। उसकी सारी इंद्रियां शिथिल हो जाती हैं।

क्या होता है मृत्यु के समय?

गरुण पुराण के अनुसार, मृत्यु के समय 2 यमदूत आते हैं। इनके भय से अंगूठे के बराबर जीव, हा हा की आवाज़ करते हुये, शरीर से बाहर निकलता है। यमराज के दूत, जीवात्मा के गले में पाश बांधकर, उसे यमलोक ले जाते हैं। इसके बाद, जीव का सूक्ष्म शरीर, यमदूतों से डरता हुआ आगे बढ़ता है।

कैसा है मृत्यु का मार्ग?

मृत्यु का रास्ता अंधेरा और गर्म बालू से भरा होता है। यमलोक पहुंचने पर, पापी जीव को यातना देने के बाद, यमराज के कहने पर, उसे आकाश मार्ग से घर छोड़ दिया जाता है। घर आकर वह जीवात्मा, अपने शरीर में, फिर से घुसना चाहती है। लेकिन यमराज के दूत के पाश से आत्मा मुक्त नहीं हो पाती है।

यह भी पढ़े – तिलक लगाने के चमत्कारी प्रभाव

पिंडदान के बाद भी, वह जीवात्मा तृप्त नहीं हो पाती है। इस तरह भूख प्यास से बेचैन आत्मा, फिर यमलोक आ जाती है। जब तक उस आत्मा के वंशज, उसका पिंडदान नहीं करते, तो आत्मा दु:ःखी होकर घूमती रहती है। काफी समय यातना भोगने के बाद, उसे विभिन्न योनियों में नया शरीर मिलता है।

यह भी पढ़े – Golu Devta – एक चिट्ठी से ही हो जाती है मुराद पूरी

इसीलिये मनुष्य की मृत्यु के 40 दिन तक, पिंडदान ज़रुर करना चाहिए। दसवें दिन पिंडदान से, सूक्ष्म शरीर को चलने की शक्ति मिलती है। मृत्यु के 43वें दिन फिर यमद्त उसे पकड़ लेते हैं। उसके बाद शुरू होती है वैतरणी नदी को पार करने की यात्रा। वैतरणी नदी को पार करने में पूरे 47 दिन का समय लगता है। उसके बाद जीवात्मा यमलोक पहुंच जाती है।

क्या है गरुण पुराण?

गरुण पुराण के अधिष्ठाता भगवान विष्णु हैं। इसमें 49 हजार श्लोक थे, लेकिन अब सिर्फ 7 हज़ार श्लोक ही हैं। गरुण पुराण 2 भागों में है। पहले भाग में श्रीविष्णु की भक्ति, उनके 24 अवतार की कथा और पूजा विधि के बारे में बताया गया है।

दूसरे भाग में, प्रेत कल्प और कई तरह के नरक के वर्णन है। मृत्यु के बाद मनुष्य की क्‍या गति होती है? उसे किन-किन योनियों में जन्म लेना पड़ता है? क्या प्रेत योनि से मुक्ति पाई जा सकती है? श्राद्ध और पिंडदान कैसे किया जाता है? श्राद्ध के कौन-कौन से तीर्थ हैं? मोक्ष कैसे मिल सकता है? इस बारे में विस्तार से वर्णन है।

गरुण पुराण की कथा

महर्षि कश्यप के पुत्र पक्षीराज गरुड़ भगवान विष्णु के वाहन हैं। एक बार गरुड़ ने भगवान विष्णु से मृत्यु के बाद जीवात्मा की स्थिति के बारे में प्रश्न किया था। तब विष्णु जी ने, मृत्यु के बाद की जीवात्मा की गति के बारे में, गरुण को बताया था। इसीलिए इसका नाम गरुण पुराण पड़ा।

गरुण पुराण का विषय

गरुण पुराण की शुरुआत में सृष्टि के बनने की कहानी है। इसके बाद सूर्य की पूजा की विधि, दीक्षा विधि, श्राद्ध पूजा, नवव्यूह की पूजा विधि के बारे में बताया गया है। साथ ही साथ भक्ति, ज्ञान, वैराग्य, सदाचार और निष्काम कर्म की महिमा भी बताई गयी है।

श्राद्ध में गरुण पुराण के पाठ से आत्मा को मुक्ति और मोक्ष मिलता है। इसीलिये श्राद्ध के 45 दिनों में जगह जगह गरुण पुराण के पाठ का आयोजन होता है। अपने पितरों और पूर्वजों को मुक्ति दिलाने के लिये, ज़रूर पढ़ें गरुण पुराण।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here