क्या है खुश रहने का राज़ – (Secret of Happiness In Hindi Motivational story)

एक समय की बात है, एक गाँव में महान ऋषि रहते थे। लोग अपनी समस्याएं उनके साथ लाते थे और ऋषि उनका मार्गदर्शन करते थे। एक दिन एक व्यक्ति ऋषि के पास आया और ऋषि से एक प्रश्न पूछा। उन्होंने ऋषि से पूछा, “गुरुदेव, मैं जानना चाहता हू कि हमेशा खुश रहने का रहस्य क्या है?
( What is Secret of Happiness )” ऋषि ने उससे कहा कि तुम मेरे साथ जंगल में चलो, मैं तुम्हे खुश रहने का राज़ बताता हू।

Secret of Happiness
Secret of Happiness

यह कहकर ऋषि और व्यक्ति जंगल की ओर चलने लगे। रास्ते में ऋषि ने एक बड़ा पत्थर उठाया और उस व्यक्ति से कहा कि इसे पकड़ो और चलो। उस व्यक्ति ने पत्थर उठाया और ऋषि के साथ जंगल की ओर चलने लगा। कुछ समय बाद उस व्यक्ति के हाथों में दर्द शुरू हुआ, लेकिन वह चुप रहा और चलता रहा। लेकिन जब बहुत समय बीत गया और उसे दर्द सहन नहीं हुआ, तो उसने ऋषि से कहा कि उसे दर्द सहन नहीं हो रहा है। तो ऋषि ने कहा कि इस पत्थर को नीचे रख दो। पत्थर को नीचे रखने पर व्यक्ति को बड़ी राहत महसूस हुई।

यह भी पढ़े –  भगवान बुद्ध ने क्यों कहा “जागो” ! समय हाथ से निकला जा रहा है

तब ऋषि ने कहा – “यही खुशी का रहस्य है” (Secret of Happiness)। उस व्यक्ति ने कहा – गुरुवर मुझे समझ नहीं आया।

तो ऋषि ने कहा-

” जिस तरह इस पत्थर को एक मिनट तक हाथ में रखने से थोड़ा सा दर्द होता है , और अगर आप इसे एक घंटे के लिए हाथ में रखते हैं, तो यह बहुत दर्द देता है और अगर आप इसे लंबे समय तक रखेंगे, तो दर्द और बढ़ जाएगा,

उसी तरह दुःख के बोझ को हम जितना अधिक देर तक उठाये रखेंगे,  उतना ही हम दुखी और निराश होंगे। यह हम पर निर्भर करता है कि हम दुख का बोझ एक मिनट के लिए रखते हैं या यह जीवन भर है। यदि आप खुश रहना चाहते हैं, तो दुःख रूपी पत्थर को जल्दी से जल्दी नीचे रखना सीख लो और हो सके तो उसे उठाओ ही नहीं । “

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here